देश के लगभग 6 लाख 85 हजार रेलवे माल गोदाम श्रमिक जिसमें माँ, बहन, बेटियां, भाई व बुजुर्ग सभी
जाति के लोग हमारे स्वजन हैं |

इस सभी के आरोग्य, सुख, समृद्धि, सम्मान, स्वाभिमान व आजादी के लिए संघर्ष करना संघ अपना नैतिक, समाजिक, दायित्व मानता है |

इस मिशन का मुख्य लक्ष्य श्रमिकों के स्थाइकरण कराकर उनके उचित हक अधिकार को दिलाना है।